मंदी है तो क्या हुआ, जोर से बोलो जयश्रीराम!

@अरविंद सिंह जी हाँ मित्रों! जयश्रीराम का यह उदघोष केवल कोरा नारा भर नहीं है बल्कि दुनिया की लगभग सभी गंभीर समस्याओं का समाधान का अद्भुत,आलौकिक भारतीय मंत्र है। जिसको पूरी अन्तर्रात्मा से बोलने पर भारतीय उप महाद्वीप की लगभग सभी समस्याएं, समाधान की ओर बढ़ जाती हैं। यकिन ना हो आजमा कर देखा जा […]

0Shares
Continue Reading

कमिश्नर आजमगढ़ ने राजकीय मेडिकल कालेज एवं सुपर फैसेलिटी हास्पिटल चक्रपानपुर में व्यवस्थाओं का लिया जायज़ा

आवश्यक सुविधायें यथाशीघ्र उपलब्ध कराने हेतु हर स्तर पर किया जायेगा हर संभव प्रयास: मण्डलायुक्त आज़मगढ़। मण्डलायुक्त कनक त्रिपाठी ने बुधवार को जनपद के चक्रपानपुर स्थित राजकीय मेडिकल कालेज एवं सुपर फैसेलिटी हास्पिटल (पीजीआई) की व्यवस्थाओं का मौके पर जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने ओपीडी तथा भर्ती मरीजों से मिलकर दवा, इलाज, खानपान आदि की […]

0Shares
Continue Reading

महिलाओं की वो 5 बीमारियां जिन्हें वो चुपचाप सहन कर जाती हैं

शुक्र है, अनुष्का शंकर ने गर्भाशय संबंधी अपने रोग को सोशल मीडिया में चर्चा का विषय बनाया। मशहूर सितारवादक अनुष्का शंकर ने बीती 30 अगस्त को सोशल मीडिया में अपने गर्भाशय से जुड़े रोग, उनके निदान और फिर उपचार का काफी विस्तार से सिलसिलेवार खुलासा किया है। 38 वर्षीय अनुष्का के इस खुलासे की दो […]

0Shares
Continue Reading

आओ अम्बेडकर से प्यार करें

–प्रो० लालबहादुर वर्मा ‘ आओ अम्बेडकर से प्यार करे ” अम्बेडकर को पहले भी पढ़ा था पर यह लेख अम्बेडकर को और नजदीक से जानने का अवसर देता है | आज उसी लेख को आपको साझा कर रहा हूँ —— हम किसे याद करते है ?जिससे प्यार करते है |हम किससे प्यार करते है ?जिससे […]

0Shares
Continue Reading

मीडिया तब और अब ……

स्वदेशी आंदोलन के समय 1907 में उत्तर प्रदेश में इलाहाबाद के निवासी शांति नारायण भटनागर ने अपनी जमीन-जायदाद बेचकर स्वराज्य नामक साप्ताहिक अखबार निकाला। स्वराज्य अखबार के सम्पादकों को कुल 125 वर्ष के काले पानी की सजा हुई, फिर भी डिगे नहीं। स्वराज के संस्थापक भटनागर जी ‘रायजादा’ कहलाते थे, उन्हें भी सरकार ने नहीं […]

0Shares
Continue Reading