“चंद्रयमय हुआ चंद्रयान – 2”

 रूपेश कुमार    चंद्रयमय हुआ चंद्रयान – 2 ,भारत का सिरमौर हुआ चांद पर ,दुनिया में सबसे पहले झण्डा फहराया चांद पर ,सब उनकी जयघोष करता दुनिया में , श्वेत चांद आज तिरंगे में लहरा ,दुनिया जिसकी जयगान करता आज ,भारत मां के लाल वैज्ञानिकों ने ,भारतमाता का मान सम्मान बढ़ाया ! गर्व है भारत […]

0Shares
Continue Reading

विकास के साथ सम्यक् आर्थिक नजरिया जरूरी

ललित गर्ग – केन्द्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने लोकसभा में आम बजट प्रस्तुत किया। भारत को अगले पांच साल में पांच लाख करोड़ डाॅलर की अर्थव्यवस्था बनाने के लक्ष्य का रोडमैप इसमें झलक रहा था। इसके लिये कृषि आधारित बुनियादी ढांचा बनाने, नये अवसर तलाशने, कृषि संस्थानों को मजबूत बनाने, बेरोजगारी दूर करने और सार्वजनिक-निजी […]

0Shares
Continue Reading

‘‘किसान हूँ हिन्दुस्तान का’’

वेद प्रकाश ‘वेद’ दर्द कितना भी तेज हो, जख़्म गहरा क्यों न हो, मैं वो परिन्दा नहीं जिसे दुःख सहने की आदत क्यों न हो । मिट्टी में पला हूँ पक्की जु़ब़ान का, हल लिए चलूँ कान्धे पे, सपना जवान का, भूख प्यास सहकर भी हार न मानूँगा, चाहे कुछ भी हो जाम पर; आत्महत्या […]

0Shares
Continue Reading

गाजीपुर के अष्ट शहिदों के शहादत को नमन

भारत छोड़ो आंदोलन में बलिदान का शीर्ष शिखर छूने वाले गाजीपुर के गौरव,अमर बलिदानी,अमर शहीद डॉक्टर शिवपूजन राय जो 18 अगस्त 1942 को मोहम्दाबाद तहसील पर तिरंगा लहराते हुए अपने सात अन्य साथियों के साथ शहीद हो गए,आप अष्ट अमर शहीदों की शहादत को मैं कविवर गोपाल सिंह नेपाली की पंक्तियों के माध्यम से नमन […]

0Shares
Continue Reading

लावारिश मासूम : जिंदा हैं तो होने का सुबूत तो दीजिये जनाब!

-प्रवीण सिंह के फेसबुक वाल से मानवता और इंसानियत को तार-तार करने वाली एक घटना जो आजमगढ़ के अतरौलिया थाना अंतर्गत 5 दिन पहले घटित हुई। बोरी में बंद एक जिंदा मासूम सा बच्चा जो ना ही रिश्तों को जान पाया है,ना ही इस दुनिया को समझ पाया है। उसके साथ इस तरह का अमानवीय […]

0Shares
Continue Reading

इस बूढ़ी अम्मा की आखिरी उम्मीदों के लिए भारत सरकार को उसके बेटे को नेपाल से लाना ही होगा

अम्मा की मदद सिर्फ़ बस सिर्फ़ आप कर सकते हैं… अम्मा की कहानी उनकी ज़ुबानी बताता हूँ … अम्मा का बेटा २८ वर्षीय महेन्द्र की शादी बड़ी ख़ुशियों के साथ की गई बहु घर आइ और अम्मा की ख़ुशी का ठिकाना न रहा अम्मा ने बेटे से कहा बेटा कब तक गाड़ी दूसरों की चलायेगा […]

0Shares
Continue Reading

प्रेरक कहानी : कुछ चीजें आपको बदल सकती हैं सकती हैं

बाहर बारिश हो रही थी। अंदर स्कूल में क्लास चल रही थी, तभी टीचर ने बच्चों से पूछा कि अगर तुम सभी को 100-100 रुपये दिए जाए तो तुम सब क्या क्या खरीदोगे? किसी ने कहा कि मैं वीडियो गेम खरीदूंगा। किसी ने कहा मैं क्रिकेट का बेट खरीदूंगा। किसी ने कहा कि मैं अपने […]

0Shares
Continue Reading

जब उबरेंगे तो धोएंगे जमकर, देख लेना..

वो लोग फिलहाल जीत गए लगते हैं। भड़ास बन्द करा दिया है। गलगोटिया वालों! ये धन के बल पर हासिल की गई जीत फौरी है। हम ऐसे सर्वर देख रहे हैं जो यूरोप के डीएमसीए कानून के पचड़े से परे हों। हो सकता है इस संकट से उबरने में हमें कुछ दिन लग जाएं पर […]

0Shares
Continue Reading

तुम जानोंगे देश जीतता कब है और वास्तव में हारता कब है

मित्रों तो ये वे युवा हैं जिन्होंने हिन्दुस्तान को जिताने और हराने के मापदण्ड तय कर रखे हैं। जी! 11 लोगों की भारतीय टीम 48 घण्टों की मशक्त के बाद हार गयी। शाम चाय के नुक्कड से आया हँू भारत माता के ये युवा बोल रहे थे हिन्दुस्तान हार गया। मैनें पूछा कैसे !तो बताया […]

0Shares
Continue Reading

जस्टिस रंगनाथ पांडे का पीएम के नाम पत्र न्यायिक व्यवस्था पर सवाल है

-मनीष श्रीवास्तव की वाल से इलाहाबाद हाईकोर्ट के वरिष्ठ न्यायमूर्ति रंगनाथ पांडे ने एक धमाकेदार पत्र सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखा है। जिसमें न्यायमूर्ति पांडे ने अपने न्यायिक अनुभव के 34 वर्षों का उल्लेख करते हुए देश की न्याय व्यवस्था को बेहद सटीक आईना दिखाया है। आप को ये पत्र जरूर पढ़ना चाहिए। आपने […]

0Shares
Continue Reading