लार्जर दैन लाइफ …

मधुसूदन यह महादेश ‘लार्जर दैन लाइफ ‘ नायकों का देश है। मानवता के उच्चतम आदर्शों की सबसे उर्वर धरा। राम सा राजा, भरत लक्ष्मण सा भाई, सीता सी पत्नी और वधू, हनुमान सा सेवक, कृष्ण सा नीतिज्ञ, राधा या पार्वती सी प्रेमिका, शिव सा देवत्व किसी और जमीन पर न हो सकेंगे। यह धरती अपने […]

0Shares
Continue Reading

यूं ही नहीं कोई “मिलेनियम स्टार” अमिताभ बच्चन हो जाता

–अतुलमोहन सिंह ‘स्टार ऑफ द मिलेनियम’, हिंदी सिनेमा के सबसे चहेते कलाकार अमिताभ बच्चन। अमिताभ उन चंद अभिनेताओं में से हैं जिनकी एक्टिंग की रेंज ने उनके आलोचकों को भी हरदम चौंकाया है। आधी सदी तक हिंदुस्तान ही नहीं बल्कि दुनिया के कई देशों में दर्शकों के दिलों पर राज करना आसान नहीं। पूर्व प्रधानमंत्री […]

0Shares
Continue Reading

वो अपने चेहरे में सौ आफ़ताब रखते हैं इसीलिये तो वो रुख़ पे नक़ाब रखते हैं

हसरत जयपुरी पूण्यतिथि पर विशेष: सलाम प्यार को , चाहत को , मेहरबानी को , सलाम जुल्फ को खुशबु की कामरानी को सलाम सलाम गाल के तिलों को जो दिलो की मंजिल है ऐसी शायरी के अजीमो शख्सियत हसरत जयपुरी का जन्म 15 अप्रैल 1918 में जयपुर में हुआ था \ हसरत जयपुरी का नाम […]

0Shares
Continue Reading

सलमान खान ने रानू मंडल को दिया 55 लाख का घर और ‘दबंग 3’ में गाने का मौका!

रिपोर्ट में दावा किया गया कि हिमेश रेशमिया के बाद सलमान खान ने अपनी आने वाली फिल्म ‘दबंग 3’ में रानू मंडल को गाने का मौका भी दिया है. अपनी सुरीली आवाज से आज हिमेश रेशमिया के स्टूडियो तक पहुंची रानू मंडल स्टार बन चुकी हैं. पहले उन्हें हिमेश रेशमिया ने गाने का ऑफर दिया. […]

0Shares
Continue Reading

‘मिशन मंगल ‘ फिल्म पर ज्यादातर नकारात्मक प्रतिक्रियाएं क्यों?

-रश्मि राविजा कुछ ने तो कहा कि फ्री में टोरेंट पर बढ़िया प्रिंट मिले तब भी मत देखो. पर मैं तो कभी किसी की सुनती नहीं, इसलिए थियेटर में देखने चली गई. पर फिल्म देखने के बाद आभास हो गया कि वे लोग ऐसा क्यूँ कह रहे थे. जिन्हें विषय पर केन्द्रित, तकनीकी रूप से […]

0Shares
Continue Reading

भारतीय हिन्दी सिनेमा-कल से आज तक

राज कुमार सिंह भारतीय सिनेेमा के जनक कहे जाने वाले दादा साहेब फाल्के ने ‘‘राजा हरिश्चन्द्र’’ फिल्म बनाकर भारतीय फिल्मों की शुरुआत की सन् 1913 में जो मूक फिल्म थी। मूक फिल्मों से शुरु होकर आज सिनेमा कितना समृद्ध हो चुका है उसके बारे में जितनी चर्चा की जाये उतना ही कम है। सन् 1913 […]

0Shares
Continue Reading

भारतीय हिन्दी सिनेमा-कल से आज तक

राज कुमार सिंह भारतीय सिनेेमा के जनक कहे जाने वाले दादा साहेब फाल्के ने ‘‘राजा हरिश्चन्द्र’’ फिल्म बनाकर भारतीय फिल्मों की शुरुआत की सन् 1913 में जो मूक फिल्म थी। मूक फिल्मों से शुरु होकर आज सिनेमा कितना समृद्ध हो चुका है उसके बारे में जितनी चर्चा की जाये उतना ही कम है। सन् 1913 […]

0Shares
Continue Reading

पत्रकार हत्या : हिजड़ों के बीच मर्दानगिनी मूर्खता कहलाएगी?

–रंजीत यादव की फेसबुक वाल से यूपी के सहारनपुर में दिनदहाड़े शराब तस्कर ने पत्रकार और उनके भाई की गोली मारकर हत्या कर डाली हत्या के बाद गुस्साए लोगों ने हंगामा किया तो पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया. मोहल्ले वालों का आरोप है कि कई बार पुलिस से शिकायत करने के बाद भी पर पुलिस […]

0Shares
Continue Reading

अगर तुम हो सावन तो मैं प्यासी नदी हूं’!

–अभिषेक प्रकाश – “विद्या कल फिर से बारिश होने वाली है। -तो मैं अपना छाता लाऊंगी! -तो चलो फिर मैं अपना नही लाता !” लेकिन आपने तो मौका ही नही दिया! न आप आई और न बारिश की बूंदे ! वह गीत अभी भी गूंज रहा है जिसमें आप कहती हैं कि ‘अगर तुम हो […]

0Shares
Continue Reading

दो सितारों का जमी पे मिलन आज की रात जैसे नगमे लिखने वाले शकील बदायुनी को याद करते हैं

शकील बदायुनी को याद करते हुए हरि ॐ — मन तरपत हरि दर्शन को आज। अपने कागज के कैनवास पर लिपिबद्द करने वाले मशहूर शायर और गीतकार शकील बदायूनी का अपनी जिन्दगी के प्रति नजरिया उनके शायरी में झलकता है | शकील साहब अपने जीवन दर्शन को कुछ इस तरह बया करते है | ” […]

0Shares
Continue Reading