यूंही नहीं कुंडा और बाबागंज की जनता राजा भैया के लिए जान छिड़कती।

Differentiator Shakhsiyat

-बीरेन्द्र सिंह

पिताजी के इलाज को लेकर एसजी० पी०जी०आई०लखनऊ जाना रहा। हृदय रोग विभाग में डा० पी०के० गोयल जो विभागाध्यक्ष भी है को दिखाया। 18 मई को पिताजी भर्ती हुए 21मई को एंजियोग्राफी हुआ तब पता चला कि हृदय की तीनों प्रमुख धमनी नाड़ी में ब्लाकेज है और बाईपास सर्जरी(open heart surgery) होगा। पिताजी को सर्जरी विभाग में रिफर कर दिया गया जहाँ के विभागाध्यक्ष डा० निर्मल गुप्ता जी है। डा० गुप्ता ने सारी रिपोर्ट्स आदि देखने के बाद अपने स्पष्टवादिता के क्रम में पिताजी के रोग के बारे मे बहुत सारी बातों का जिक्र किया जिससे मन बोझिल हो उठा आखिर पिताजी की बात थी। रात 11बजे मैं राजा भैयाजी को फोन पर मैसेज किया। इसी क्रम में राजा भैया के निजी सचिव अजीत सिंह को भी मैसेज किया। राजा भैया ने फोन पर मुझसे दो बार बात की कहा बीरेंद्र भाई आप बिल्कुल चिंता न करें।पिताजी का अच्छे से इलाज कराया जाएगा।मै आपकी हर प्रकार से मदद करुंगा। वार्ता के क्रम मे उन्होंने कहा कि आप होटल आदि में न रुकिए, मेरा मंत्री आवास बहुखंडी में है आप वहीं रुकिएगा।मै अभी आपको हर व्यवस्था करवा देता हूँ। यह कहते हुए यह भी कहा कि पैसा वगैरह की भी चिंता न करिएगा और फोन अपने निजी सचिव अजीत सिंह को देते हुए अग्रिम व्यवस्था के लिए अजीत सिंह को सहेजने भी लगें। लगभग10 मिनट बाद मेरे मोबाइल पर एक फोन आया नाम अपना चन्द्रभान बताया और बोला भईया जी आप पी० जी० आई० में कहा है ।मैं अपना लोकेशन बताया कि लगभग 20 मिनट बाद एक एंबुलेंस आ गई।अब हम लोग 5 सदस्य एंबुलेंस से मंत्री आवास डालीबाग लखनऊ आ गये। प्रतिदिन 5लोगों का भोजन रामायण(राजा भैय्या का आवास) से दोनों मीटिंग चन्द्रभान जी लाते थे।एक रात 11बजे मै चन्द्रभान को दवाइयों की पर्ची का हिसाब करते देखा और पूछ पड़ा कि ये किसकी दवा की पर्ची है? चन्द्रभान यादव ने बातचीत के दौरान बताया कि राजा साहब दो एंबुलेंस निजी खरिदे है और प्रतिदिन क्षेत्र से आये जनता के लिए दवा इलाज खाना पीना और रहने की व्यवस्था (विधायक विनोद सरोज का आवास ) करते है।इस काम को मै और सुनील सिंह करते है ये जो दवा की पर्चियां जनता की दवाइयोंं की है जो प्रति सप्ताह 25 से 28 हजार के करीब थी इसे चन्द्रभान जोड़ रहा था जिसका भुगतान राजा साहब करते है।एक बात और जानकारी मे आई कि जनता जब वापस घर जाती है तो किराया आदि भी राजा भैया देते है।

एक दिन मै रामायण भवन राजा भैया के आवास राजा भैया से मिलने गया तो राजा भैया भीड़ से घिरे हुए थे कि अचानक उनकी निगाह पड़ी कि वे तुरंत ही पिताजी का हालचाल पुछते हुए अपने निजी चालक रोहित सिंह को सहेजने लगें कि बीरेंद्र जी को देख लिजिएगा।रोहित सिंह जी मुझे पैसा देने के लिए बोले तो मैने कहा अभी जरूरत नहीं है भाई जी फिर जरूरत होगी तो बताऊंगा।रोहित जी ने कहा कि आपके लिए महराज का आदेश हुआ है आप बाद मे अजीत से मिल लीजिएगा।मैने कहा जरूरत होगी तो अवश्य बोल दूगां बस महराज की कृपा बनी रहे। मै वहां लगभग 2 घंटे तक देखता रहा कि पूरे प्रदेश से लोग अपनी अपनी पैरवी करवाने आते थे और राजा भैया लगातार फोन व लिखित रुप से पैरवी कर रहे थे।गजब के इंसान है धीर- गंभीर सबकी बातों को ध्यान से सुनना और गंभीरता से पैरवी करना उनका प्रतिदिन का शगल था।ये तो मै जानता था कि राजा भैय्या अपने क्षेत्र की जनता को जनार्दन समझते है।प्रति वर्ष 101 गरीब परिवारों की कन्याओं को सामूहिक विवाह करवाना व पिता की भूंमिका में रोजमर्रा के सामान ,टी०वी,कूलर,पंखा,खाद्यान्न सामाग्री,बेड बिस्तरा,अटैची, बक्सा वगैरह आदि देकर कन्यादान करना चाहें वो हिन्दू हो या मुस्लिम ।अबतक नेत्र शिविर लगाकर 60 हजार लोगों का आंख खुलवाना व जनता दरबार लगवा कर लोगों की समस्या मे मदद करना चर्चा का विषय तो था ही पर लोगों के इलाज आदि की व्यवस्था करवाना तो मै अपने आंखों के सामने देखा तो हतप्रभ रह गया।राजा भैया जी से वार्ता में कई बार यह बात उनके मुंह से सुना है कि जन प्रतिनिधि को जनसेवक होना चाहिए।जनता के दुख दर्द में भरपूर सहयोग करना चाहिए।शायद इसी वजह से 1993 से लगातार 6 बार विधायक हुए वो भी प्रति बार बढ़ती अंतराल के वोटों से।आज कुंडा में लगभग 12 हजार ही क्षत्रिय है पर चुनाव जीते है 1लाख 4 हजार के अंतराल से जो पूरे प्रदेश का रिकार्ड है।

एक खास बात यह है कि वे निर्दल चुनाव जीतते है और हर बार चुनाव चिन्ह भी बदल जाता है जैसे कभी कुर्सी तो कभी आरी तो कभी कुछ जिसे जनता तक बताना समझाना कितना दुर्लभ कार्य होता है। स्वयं तो चुनाव में विजयी होते ही है साथ ही साथ बगल के विधानसभा बाबागंज से स्व०रामनाथ सरोज व उनके पुत्र विनोद कुमार सरोज को भी जीतवाते है वो भी लगातार कई बार से। जिलापंचायत अध्यक्ष हो या ब्लाक प्रमुख हो या नगर पंचायत अध्यक्ष व जिलापंचायत सदस्य, जिला कोवापरेटीव का चुनाव हो सभी राजा भैय्या के ही लोग विजयी होते है। ये उनके प्रभुता और जनसेवा का ही प्रतिफल है। विगत लोकसभा के चुनाव में मै कौशांबी में था एक पंडित जी ने मंच से जोर- जोर से भावुक होकर बताने लगे थे कि मेरे पुत्र की तवियत खराब थी मैं डा०कैलाश नाथ ओझा जी के माध्यम से राजा के पासबेंती राजभवन गया और बताया कि इलाहाबाद के डाक्टरों ने कहा कि लगभग 8 लाख खर्च होगा तुम्हारे पुत्र के इलाज में। मै राजा साहब से कहा कि मेरा पुत्र दवा इलाज के अभाव मे मर जाएगा मेरे पास इतनी जमीन भी नहीं है कि उसे बेच कर पुत्र की जान बचाऊ।राजा साहब ने एक पर्ची लिखकर पंडित जी को दिया और पुत्र को लखनऊ स्थित एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती करवाया और 5 लाख रु का भुगतान भी किया।यह है राजा भैया की दिलेरी व परोपकार की भावना।कई बहुत दृष्टांत होगें जिसे मै नही जानता जो मै जानता हूँऔर देखा, महसूस किया उसे ही लिख रहा हूँ। मुझे नहीं लगता देश में ऐसा कोई राजनेता शायद ही होगा जो जनता के लिए इस कदर मदद करता होगा।धन्य है राजा भैय्या आप के डी०एन०ए० में भदरी रियासत के बड़े महराज उदय प्रताप सिंह का खून है। कुंडा हरनामपुर रेलवे स्टेशन पर प्रति दिन पूरे रेल यात्रियों के लिए गर्मियों में खाने पीने का सामान बटवाते है बड़े महराज उदय प्रताप सिंह । लोग इस बात की चर्चा अक्सर किया करते है पर आजकी बिकाऊ मीडिया बड़े महराज की इस उदारता को नही दिखायेगी। अब राजा भैया की जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी बन गई हैं।सदस्यता अभियान प्रारंभ हो गई है।बहुत तेजी से यह पार्टी शताब्दी एक्सप्रेस की तरह पूरे उत्तर प्रदेश व अन्य राज्यों मे फैलेगी।ऐसी मेरी शुभकामनाएं भी हैे।सादर क्रांतिकारी अभिवादन के साथ मैं बीरेंद्र सिंह पत्रकार मन के उद्गार के साथ।मो० 9415391278.@ कापीराइट

0Shares

4620total visits,1visits today

1 thought on “यूंही नहीं कुंडा और बाबागंज की जनता राजा भैया के लिए जान छिड़कती।

  1. राजा भैया समस्त क्षत्रिय समाज के लिए एक आदर्श और प्रेरणा स्रोत है आप हैं तो हम सुरक्षित हैं हमारा धर्म सुरक्षित है हमारा परिवार सुरक्षित है मैं भले ही देवरिया जनपद का रहने वाला हूं परंतु विश्वविद्यालय इलाहाबाद में अध्ययन अध्यापन के समय मैंने आप के कारनामों और चर्चे सुने हैं आप वास्तव में राजा हैं राजा इसलिए नहीं कि आपके पास बहुत सारी संपत्ति है आप राजा इसलिए है क्योंकि आप दिलों पर राज करना जानते हैं माननीय राजा भैया को सादर नमन यह देवरिया जनपद का दुर्भाग्य है की आप का कोई प्रोग्राम यहां नहीं लग पाता है अन्यथा यहां 6 गांवा नाम से क्षत्रियों का एक बहुत बड़ा बेल्ट है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *