जनता सुरक्षित सार्वजनिक परिवहन की मांग कर रही थी, सरकार ने हवाई जहाज का झुनझुना थमा दिया

–पंकज चतुर्वेदी की वाल से इसी साल 9 मार्च को गाज़ियाबाद जिले के भोपुरा गांव के पीछे, हिंडन एयर फोर्स स्टेशन के एक हिस्से में नागरिक हवाई अड्डे का उदघाटन किया गया था। स्वयं प्रधान मंत्री ने इसका उद्घाटन किया था। हालांकि तब उस हवाई अड्डे की दीवारें भी ठीक से नहीं उठीं थीं लेकिन […]

0Shares
Continue Reading

ऐसी दो सत्य कथाएं, जिनको पढ़ने के बाद शायद आप भी अपनी ज़िंदगी जीने का अंदाज़ बदलना चाहें…

–आशुतोष सिंह कौशिक की वाल से*पहली* दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति बनने के बाद ऐक बार नेल्सन मांडेला अपने सुरक्षा कर्मियों के साथ एक रेस्तरां में खाना खाने गए। सबने अपनी अपनी पसंद का खाना आर्डर किया और खाना आने का इंतजार करने लगे। उसी समय मांडेला की सीट के सामने वाली सीट पर एक व्यक्ति […]

0Shares
Continue Reading

लावारिश मासूम : जिंदा हैं तो होने का सुबूत तो दीजिये जनाब!

-प्रवीण सिंह के फेसबुक वाल से मानवता और इंसानियत को तार-तार करने वाली एक घटना जो आजमगढ़ के अतरौलिया थाना अंतर्गत 5 दिन पहले घटित हुई। बोरी में बंद एक जिंदा मासूम सा बच्चा जो ना ही रिश्तों को जान पाया है,ना ही इस दुनिया को समझ पाया है। उसके साथ इस तरह का अमानवीय […]

0Shares
Continue Reading

मां, मुंबई और सावन

मां के साथ मेरा बचपन जमशेदपुर में बीता। मेरे घर में सावन बहुत महत्वपूर्ण होता था। जमशेदपुर में बारिश खूब होती है और सावन के क्या कहने। फिर भी, पूरे महीने मां पहले मंदिर जाती थीं उसके बाद ही कोई काम। मंदिर ठीक-ठाक दूर था पर पैदल ही जाना और अक्सर भीगना। ऐसे जैसे सामान्य […]

0Shares
Continue Reading

सामाजिक जनतंत्र के प्रति बढती उपेक्षा और उसका दायित्व

मध्यम वर्गीय समाज/आलेख . यह जिम्मेदारी समाज के आम मध्यम वर्गीय समाज के साथ – साथ समाज के निचले हिस्से और उनके प्रबुद्ध तबको पर आ गयी है | अब यह उसी का एतिहासिक दायित्व है कि वह आम समाज को आधुनिक युग कि मांगो , आवश्यकताओ के अनुरूप जागृत करे | उनमे एकता , […]

0Shares
Continue Reading

घर मे कोई नहीं है मेरी बूढ़ी माँ बीमार है…

-कमलेश श्रीवास्तव कल बाज़ार में फल खरीदने गया,तो देखा कि एक फल की रेहड़ी की छत से एक छोटा सा बोर्ड लटक रहा था,उस पर मोटे अक्षरों से लिखा हुआ था… “घर मे कोई नहीं है, मेरी बूढ़ी माँ बीमार है, मुझे थोड़ी थोड़ी देर में उन्हें खाना, दवा और टॉयलट कराने के लिए घर […]

0Shares
Continue Reading

कुछ याद उन्हे भी कर लो,जो लौट के घर न आयें

–Ramkumar singh विश्वविद्यालय लखनऊ में प्रवेश के साथ इंटर युनिवर्सिटी बैंडमिंटन टीम का चयन हुआ जिसमे मैं भी चयनित हुआ।टीम गठन के उपरांत नार्थ ज़ोन इंटर यूनिवर्सिटी टूर्नामेंट में लखनऊ विश्वविद्यालय की टीम पच्चीस वर्षों के उपरांत उप विजेता घोषित हुई और हमारी टीम को ऑल इंडिया इंटर यूनिवर्सिटी टूर्नामेंट खेलने का मौका मिला,इसके साथ […]

0Shares
Continue Reading

कभी मिलती थी पिता की गालियाँ और एक वक्त का खाना,आज है एक बड़ा अफसर

अंसार को कई-कई दिनों तक एक वक्‍त खाना खाकर गुजारा करना पड़ता था.वहीं ऐसे हालातों में अंसार के अब्‍बा चाहते थे कि पढ़ाई छोड़कर वे घर के खर्च में हाथ बटाएं. कभी-कभी कुछ लोगों की कामयाबी हैरत में डाल देती है. ऐसा ही एक नाम है अंसार अहमद शेख. महाराष्ट्र के जालना जैसे छोटे से […]

0Shares
Continue Reading

सोनभद्र नरसंहार कांड की न्यायिक जांच हो

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी आज़मगढ़ ने सोनभद्र नरसंहार पर पीड़ितों को मुआवजा,न्यायिक जांच को लेकर जिलाधिकारी के कार्यालय पर प्रदर्शन किया। राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन अपर जिलाधिकारी प्रशासन नरेंद्र सिंह को दिया। बता दें कि पिछले दिनों सोनभद्र जिले घोरावल तहसील के उम्भा गाँव में 11आदिवासियों की दिनदहाड़े हत्या कर दिया गया था। हत्या के पीछे […]

0Shares
Continue Reading

हिन्द पर नाज किसे होगा ?

-के.विक्रम राव बड़े झिझकते, हिचकते, गृहमंत्री अमित अनिल शाह ने लेखिका तसलीमा नसरीन को (20 जुलाई 2019) भारत में रहने का परमिट दिया| मगर केवल एक वर्ष के लिए| तसलीमा की दरख्वास्त पांच साल के लिए थी| सोनिया गाँधी इस बांग्लादेशी लेखिका को बला मानती रहीं| अटल बिहारी वाजपेयी सरकार मुसलमानों के तुष्टिकरण के कारण […]

0Shares
Continue Reading