हौसलों की उड़ान से कल्पना पहुंची मुकाम

प्रेरक व्यक्तित्व : हमारे देश में महिलाओं की ऐसी भी प्रतिभाएं हैं, जो गरीबी की वजह से कम शिक्षा मिलने के बावजूद अपनी क्षमता को आगे बढ़ाती हुई समाज के बंधनों से मुक्त होकर अपने बल और हिम्मत पर स्वयं को निर्माता बनाती है और साथ साथ देश और समाज का विकास भी कर देती […]

0Shares
Continue Reading

एजेएफ की मांगों पर डीएम आजमगढ़ हुए गंभीर, दिया अविलंब आधा दर्जन विभागों को कार्यवाही का निर्देश

‘आजमगढ़ जर्नलिस्ट फेडरेशन’ (AJF) की 6सूत्री मांगों को जिलाधिकारी आजमगढ़ एनपी सिंह ने गंभीरता से लेते हुए संबंधित विभागों को आदेश जारी कर दिया है कि यथासीघ्र इन मांगों पर विभागीय स्तर पर कार्यवाही की जाए और उस कार्यवाही से जिलाधिकारी को अवगत भी कराया जाए। बताते चलें कि विगत 30 जनवरी को ‘आजमगढ़ जर्नलिस्ट […]

0Shares
Continue Reading

अलविदा दोस्त बीबीसी, तुम बहुत याद आओगे…

-श्याम सिंह रावत पिछले लगभग 80 सालों से भारत में समाचार प्रसारित करने वाली बीबीसी हिंदी सेवा बदलते समय के दबावों के चलते कल शाम साढ़े सात बजे के अपने अंतिम बुलेटिन के साथ ही समाप्त कर दी गई है। मेरे लिए यह अपने किसी खास से बिछुड़ने जैसा अनुभव है क्योंकि वर्षों तक बीबीसी […]

0Shares
Continue Reading

अब न बालों और गालों की कथा लिखिए…!

तेवरी/ ऋषभदेव शर्मा****************** अब न बालों और गालों की कथा लिखिए देश लिखिए, देश का असली पता लिखिए एक जंगल, भय अनेकों, बघनखे, खंजरनाग कीले जायँ ऐसी सभ्यता लिखिए शोरगुल में धर्म के, भगवान के, यारो!आदमी होता कहाँ-कब लापता ? लिखिए बालकों के दूध में किसने मिलाया विष ?कौन अपराधी यहाँ ? किसकी ख़ता ? […]

0Shares
Continue Reading

यह मूक क्रांति और वंचितों के सोशल ट्रांसफार्मेशन की आहट तो नहीं?

@अरविंद सिंह तारिखी कैलेंडर में गुलाबी सर्द मौसम की यह 15 नवंबर की एक अलसुबह थी। एक दिन पहले ‘गांधी और उनकी पत्रकारिता’ पर शानदार विमर्श और चिंतन का गवाह बना आजमगढ़ नगर का एकमात्र सभागार नेहरूहाल, जो नगर के हृदय स्थल में स्थित है। थकान और सकुशल संपन्न हुए आयोजन से अलसाए मन-मस्तिष्क में […]

0Shares
Continue Reading

अपनों को शिक्षा और रोजगार देने के लिए मुस्लिम परदेशियों का उनके गांव-देश में बनेगा ट्रस्ट, कलेक्टर आजमगढ़ एनपी सिंह की पहल

@अरविंद सिंह यह कलेक्टर का कैंप कार्यालय है। शाम को 5:20 बजे हैं। हमारे मिलने का समय 5:30 निर्धारित है। लिहाजा अतिथि कक्ष में रूकना उचित था। कलेक्टर साब के अनुचर ने कहा कि अंदर कुछ लोगों के साथ डीएम साब मिटिंग कर रहे हैं।आप कहें तो आप की उपस्थिति की सूचना अंदर दे दूं। […]

0Shares
Continue Reading

दिसम्बर का सर्द महीना..और 1955 का हैदराबाद में डॉक्टर लोहिया का ऐतिहासिक भाषण….

–ओमप्रकाश सिंह राम, कृष्ण और शिव हिन्दुस्तान की उन तीन चीजों में हैं – मैं उनको आदमी कहूँ या देवता , इसके तो ख़ास मतलब नहीं होंगे – जिनका असर हिन्दुस्तान के दिमाग पर ऐतिहासिक लोगों से भी ज्यादा है । गौतम बुद्ध या अशोक ऐतिहासिक लोग थे । लेकिन उनके काम के किस्से इतने […]

0Shares
Continue Reading

पटेल की फौलादी इच्छा शक्ति के दो उदाहरण

कुछ और भी है पटेल पर कई मित्रों/पाठकों का आदेश मिला कि लौहपुरुष पर अनकही, कम विदित तथा समुचित रूप से उजागर न हुई बातों का शोधपरक उल्लेख हो| अहमदाबाद के शाहीबाग में स्थित पटेल स्मारक संग्रहालय से, सरदार के समकालीन नायकों से (गुजरात में बिताये टाइम्स ऑफ़ इंडिया के रिपोर्टर के नाते मेरे सात […]

0Shares
Continue Reading

जब देश का रक्षक हीं भक्षक बन बैठा था

Ajay Srivastava ___________________________________________ 31 अक्टूबर 1984,सुबह साढ़े सात बजे इंदिरा गांधी तैयार हो चुकीं थीं।उनकी सबसे पहली मीटिंग पीटर उस्तीनोव के साथ थी जो इंदिरा गांधी पर एक डाँक्यूमेंट्री बना रहे थे।पीटर उस्तीनोव एक दिन पहले उडीसा दौरे पर भी साथ थे।दोपहर में इंदिरा गांधी को ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री जेम्स कैलेघन और मिजोरम एक […]

0Shares
Continue Reading

– जयशंकर गुप्त आज लौह पुरुष, स्वतंत्रता सेनानी, भारत सरकार के पहले गृहमंत्री-उप प्रधानमंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल का जन्मदिन, जयंती तथा लौह महिला (आयरन लेडी) कही जानेवाली, देश की पूर्व प्रधानमंत्री मंत्री इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि-बलिदान दिवस है। कई मामलों में वैचारिक असहमति के बावजूद, दोनों भारत रत्नों को सादर नमन। विनम्र श्रद्धांजलि। आज ही […]

0Shares
Continue Reading