मंटो की समकालीन इस्मत चुगताई, जिसे हम प्यार से आपा कहते हैं

-सीमा संगसार मंटो की समकालीन इस्मत चुगताई जिसे हम प्यार से आपा कहते हैं ,भारतीय साहित्य में गंगा जमुना तहजीब की अद्भुत मिसाल हैं । कथाकारों की श्रेणी में ये अव्वल दर्जे के माने जाते हैं । उर्दू जो हमारी मातृभाषा की सहोदरी भाषा मानी जाती है , इनकी कलम इनकी मादरी भाषा में चली […]

0Shares
Continue Reading

अंकिल ! देखो किरौना आ गया …

-अभिषेक प्रकाश सांड़ और संन्यासी भी सड़क से सैनिटाइज हो गए हैं! बाबाओं के बाबा ने कहा है कि ‘अपन लंगोट तू सबे अपने संभालो।’ स्वर्ग का परमिट अपने गमछे में लेकर टहलती पब्लिक के लिए यह थोड़ा झटका जरूर है क्योंकि यहां गाज़ा-चिलम तो पहले से ही बंद था, अबकी हुक्का बार भी बंद […]

0Shares
Continue Reading

दिवाकर मुक्तिबोधः छत्तीसगढ़ की हिंदी पत्रकारिता का चमकदार चेहरा

-प्रो. संजय द्विवेदी     छत्तीसगढ़ यानी वह प्रदेश जहां हिंदी पत्रकारिता की उजली परंपरा का प्रारंभ पं. माधवराव सप्रे ने सन् 1900 में ‘छत्तीसगढ़ मित्र’ के माध्यम से किया। उसके बाद की पीढ़ी में तमाम नायक सामने आते गए और अपनी यशस्वी भूमिका का निर्वहन करते रहे। हमारे समय के नायकों में एक नाम है श्री दिवाकर […]

0Shares
Continue Reading

One day Workshop on Stellarium, an Astronomy Software.

आज दिनांक २६ फ़रवरी २०२० को इंस्टीट्यूट आफ इंजनियरिंग एंड टेक्नलॉजी, लखनऊ के एस्ट्रोनॉमी क्लब, “नक्षत्र” ने स्काई अमेचर एस्ट्रोनॉमर क्लब, लखनऊ के सदस्यों के साथ मिल कर खगोलिकए सॉफ्टवेयर , “Stellarium” को सिखाने के लिए इंदिरा गांधी नक्षत्र शाला में दिवसीय वर्कशॉप का आयोजन किया । जिसमे ३७ विद्यार्थियों ने प्रतिभाग किया । इस […]

0Shares
Continue Reading

आसनसोल में खुला देश का पहला रेस्तरां ऑन व्हील्स, पुराने कोच को कबाड़ में बेचने के बजाए बना दिया आलिशान, देखें तस्वीरें

भारतीय रेल का पहला रेस्तरां ऑन व्हील आसनसोल डिविजन में बुधवार को शुरू किया गया। रेल अधिकारियों ने बताया कि रेल यात्रियों को आकर्षित करने के लिए दो मेमू कोच (कबाड़ घोषित) को नया रंगरूप देकर आसनसोल डिविजन में खोला गया है। रेल यात्रियों और आम जनता को लुभाने के लिए दो मेमू कोच के […]

0Shares
Continue Reading

दिल्ली जल रही है और जलाने वाले भी हमवतन हैं

दिल्ली जल रही है और जलाने वाले हम सब हमवतन हैं। विभाजन की त्रासदी अब तक नहीं गई हैं । साहित्य भरा पङ़ा है ऐसी कहानियों से जिसमें नफरत की आग भङकने के बीच कोई न कोई मासूम प्रेम कहानियाँ भी हैं। हमारा समाज आज भी गुलजार है इन्हीं प्रेम कहानियों के बदौलत जिससे बावस्ता […]

0Shares
Continue Reading

क्या एक तलाकशुदा स्त्री को किसी से प्यार नहीं हो सकता?

नई रचनाकारों की श्रेणी में ममता सिंह का नाम भी बखूबी उभर कर आ रहा है । राग मारवा उनकी कहानियों का वह कोलाज है जहाँ स्त्रियाँ अपनी अस्मिता के साथ अतीत से वर्तमान में विचरण करती नजर आती हैं । राग मारवा की कुसुम जिज्जी शास्त्रीय संगीत की खनक के साथ – साथ व्यवसायिकता […]

0Shares
Continue Reading

जब भी एक स्त्री खुलकर जीती है वह लांछना बन जाती है

स्त्री विमर्श पर न जाने कितनी पुस्तकें पढ़ चुकी होउंगी , लेकिन मृदुला गर्ग मैम को पढ़ना हर बार अचंभित करता है । कठगुलाब और उसके हिस्से की धूप पढ़ने के बाद मैने फैसला किया कि मुझे चितकोबरा भी पढ़ना चाहिए । हालांकि मेरे काफी साहित्यिक मित्रों और लेखकों ने भी इसे अश्लील बताया था […]

0Shares
Continue Reading

काव्य संग्रह ‘यादों के झरोखे’ का लोकार्पण

कल पूरा दिन बलिया जिले के बेल्थरा रोड में बीता। हमारे प्रिय एवं होनहार युवा कवि अमन बरनवाल के पहले काव्य संग्रह ‘यादों के झरोखे’ का लोकार्पण किया। इस अवसर पर नगर पंचायत के अध्यक्ष दिनेश गुप्ता की अध्यक्षता में एक संगोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि अपना भाषण भी हुआ। लोकार्पण समारोह और संगोष्ठी को […]

0Shares
Continue Reading

पचपन खंभों के बीच इस रुमानी प्रेम कहानी को मैं फिर से कई दिनों तक जीना चाहती हूँ…

यह मेरा पहला उपन्यास था जो मैंने अपने विद्यार्थी जीवन में पढ़ा था । उस समय भी उतनी ही व्याकुल हुई थी , जितनी की अब हुई। जबकि प्रेम मेरे जीवन में कहीं दूर – दूर तक नहीं था; लेकिन हॉस्टल में रहने के कारण उन तमाम वार्डन्स का चेहरा घूम गया था जो सुषमा […]

0Shares
Continue Reading