साहिब के जुदाई में बौराइये नहीं, अभी सफ़र लम्बा है…. कल और आएंगे नग़मों की खिलती कलियाँ चुनने वाले, मुझसे बेहतर कहने वाले, तुमसे बेहतर सुनने वाले ।

–अभिषेक सिंह नीरज गुप्त सूत्रों के हवाले से….. बेसिक शिक्षाधिकारी आजमगढ़ अब हमारे बीच नहीं रहे।शासन से मंडलायुक्त ने निलंबन की संस्तुति की थी जिसपे शासन ने गंभीरता दिखाते हुए अपनी मोहर ठोक दी है।अपनी हस्ती और मस्ती में चल रही साहब की गतिमान एक्प्रेस फिलहाल सवारी गाड़ी में तब्दील हो गयी है।ये तो आम […]

0Shares
Continue Reading

गांधी को लेकर हमारे समय का सबसे शानदार बहस का मंच बना आजमगढ़ का नेहरूहाल,हुआ शार्प रिपोर्टर के गांधी विशेषांक का लोकार्पण

आजमगढ़। आजमगढ़ जर्नलिस्ट फेडरेशन द्वारा महात्मा गांधी के 150वीं जयंती वर्ष पर एक राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन नेहरू हाल के सभागार में किया गया। गोष्ठी का विषय महात्मा गांधी और उनकी पत्रकारिता रहा। इस अवसर पर शार्प रिपोर्टर साप्ताहिक के गांधी विशेषांक का लोकार्पण भी किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के रूप में महामना […]

0Shares
Continue Reading

पाक ने पीएम मोदी के विमान के लिए नहीं दिया एयरस्पेस तो भारत ने उठाया ये कदम

भारत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उड़ान के लिए अपने हवाई क्षेत्र के इस्तेमाल की सुविधा देने से पाकिस्तान के इनकार का मुद्दा अंतरराष्ट्रीय नागर विमानन संगठन के समक्ष उठाया है। सरकारी सूत्रों ने सोमवार को यह जानकारी दी। मोदी एक द्विपक्षीय यात्रा पर सोमवार को सऊदी अरब जा रहे हैं। भारत ने पाकिस्तान से […]

0Shares
Continue Reading

भारत भारती से नवाजी गयीं ऊषा किरन खान

–चंद्रशेखर ऊषा किरन खान मैथिली और हिन्दी की लोकप्रिय व महत्वपूर्ण कथाकार पद्मश्री डॉ.उषा किरण खान कोई तीन साल पहले लखनऊ में हिंदी संस्थान के एक सम्मान समारोह में शामिल होने आईं थीं | उपरोक्त अवसर का रचनात्मक इस्तेमाल करते हुए ‘संवाद’ की ओर से कहानीकार प्रज्ञा पांडेय की पहल पर उनके कहानी पाठ का […]

0Shares
Continue Reading

कुलपति क्या होता है ?

एक केंद्रीय मंत्री बंगाल के प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय जादवपुर के कुलपति से पूछता है – हम केंद्रीय मंत्री हैं, अगवानी में क्यों नही आये ? छात्रों को नागवार गुजरा और उन्होंने ‘ आगवानी और पीछवानी ‘ कर दी । मंत्री जी के हवाले से कहा जा रहा है – छात्रों ने बाल खींचे , कपड़े फाड़े […]

0Shares
Continue Reading

हमारे समय में प्रशासक बनाम प्रशासक!

रमेश कुमार —————————— 8 नवांकुरों का हिंदी दिवस पर सम्मान, वह भी जनपद की विरासत के नाम पर। गजब बात यह कि पांच पांच हजार का चेक लोकप्रिय जिलाधिकारी ने अपने वेतन से बच्चों को दिया। यही नहीं जनपद के युवा रंगकर्मी और सूत्रधार के संस्थापक अभिषेक पंडित के कार्यक्रम में गये तो 25000/-पच्चीस हजार […]

0Shares
Continue Reading

गणेशशंकर विद्यार्थी का जेल जीवन

जेल जाने के पहले जेल के संबंध में हृदय में नाना प्रकार के विचार काम करते थे। जेल में क्‍या बीतती है, यह जानने के लिए बड़ी उत्‍सुकता थी। कई मित्रों से, जो इस यात्रा को कर चुके थे, बातें हुई। किसी ने कुछ कहा और किसी ने कुछ। इस विषय में कुछ साहित्‍य भी […]

0Shares
Continue Reading

कौशलेंद्र के पार्थिव शरीर को अग्नि के हवाले करके आया हूँ…

-पंकज चतुर्वेदी अभी कौशलेंद्र के पार्थिव शरीर को अग्नि के हवाले करके आया। दुनिया से बेखबर चादरों से ढँकी रस्सियों से जकड़ा शरीर। मगज बह कर नाक से बहने लगा था। मौत के सात घण्टे बीत गए थे लेकिन अस्पताल वाले पार्थिव शरीर दे नहीं रहे थे। बीमा कम्पनी वाले सुनिश्चित करना चाहते थे कि […]

0Shares
Continue Reading

देवदार के घने जंगल का वह भुतहा बंगला !

–अंबरीश कुमार बस से उतरे तो शाम भीगी हुई थी .सामने देवदार के दरख्तों से घिरी कोई इमारत थी .यह कोई बस अड्डा जैसी जगह भी नहीं थी .अपने को जाना डाक बंगला तक था .पर जंगल के साथ साथ जा रही सड़क सुनसान थी .इधर उधर देखा तो कुछ दूर पर एक बुजुर्ग दिखे […]

0Shares
Continue Reading

हिंदी दिवस के बहाने…

हिन्दी दिवस प्रत्येक वर्ष 14 सितंबर को मनाया जाता है। 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने एक मत से यह निर्णय लिया कि हिन्दी ही भारत की राजभाषा होगी। इसी महत्वपूर्ण निर्णय के महत्व को प्रतिपादित करने तथा हिन्दी को हर क्षेत्र में प्रसारित करने के लिये राजभाषा प्रचार समिति, वर्धा के अनुरोध पर […]

0Shares
Continue Reading