पद्मश्री दामोदर गणेश बापट नहीं रहे

-गिरीश पंकज कुष्ठ रोगियो की सेवा में जीवन होम करने वाले पद्मश्री दामोदर गणेश बापट नहीं रहे। यह समाचार व्यक्तिगत तौर पर पीड़ा से भर गया । मैं बापट जी को पिछले 45 साल से जानता था । बिलासपुर में रहकर जब युगधर्म अखबार के रिपोर्टर के रूप में मैंने अपना काम शुरू किया, तभी […]

0Shares
Continue Reading

छत्‍तीसगढ राजभाषा से सम्मानित डा० गीता शर्मा को ‘लेखक श्री’ सम्‍मान और ‘विद्यासाग’ मानद सम्‍मान

छत्तीसगढ़ ब्यूरो। शिवमहापुराण और इशादी नौ उपनिषदों जैसे उत्‍कृष्‍ट ग्रथों का छत्तीसगढी भाषा मे अनुवाद कर,भाषा को राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय पटल पर सम्मानित कर, उसका मान बढाने वाली डा० गीता शर्मा को ,जगदलपुर में ‘लेखकश्री’ अकादमी पुरस्‍कार से सम्मानित किया गया।उनका आलेख worldwide portal मे प्रकाशित भी हुआ है। सामाजिक विज्ञान एवं शोध संस्‍थान इलाहाबाद […]

0Shares
Continue Reading

सियासत में साहित्य के स्वर

-गिरीश पंकज साहित्य हमारे जीवन को कितना प्रभावित करता है इसे समझने के लिए आए दिन हम उन घटनाओं को याद कर सकते हैं, जिनमें सामान्य से सामान्य व्यक्ति भी अपनी बात की पुष्टि करने के लिए कई बार शेरो शायरी, दोहे,चौपाई का सहारा लेता रहता है ।और राजनीति में तो अनेक बार नेता कविता […]

0Shares
Continue Reading

मितान यानी हर सुख-दुख का साथी…

-रायपुर से संजीव शर्मा भारत में फ़्रेंडशिप डे मनाने की प्रथा भले आज चलन में आई हो छत्तीसगढ़ में मित्र बनाने और मित्रता निभाने की एक लंबी सांस्कृतिक परम्परा रही है. फ़्रेंडशिप डे तो एक दिन का मामला है लेकिन छत्तीसगढ़ की यह परंपरागत मित्रता ऐसी होती है कि इसके आगे ख़ून के रिश्ते फीके […]

0Shares
Continue Reading