एक नजर जनजातीय संग्रहालय पर भी डालें जनाब!

(भाग दो)   कलाबोध की स्थिति मध्यगामी है – उसे न वैज्ञानिक प्रयोगधर्मिता से परहेज थी न सनातन तत्वों से | चेतना की उपज होते हुए भी कला अवचेतन की जड़ों में अपनी सार्थकता खोजती है | वह विज्ञान के उन सब युकातिस्न्गत, तार्किक और बौद्धिक अंध विश्वासों पर प्रश्न चिन्ह लगाती है, जो आधुनिक […]

0Shares
Continue Reading

कौन थी अमृता शेरगिल?

आधुनिक भारतीय कला के इतिहास की पहली महिला चित्रकार अमृता शेरगिल की पेण्टिंग पीड़ितों के लिए राहत कोष जुटाने के लिए हुयी नीलामी में सर्वश्रेष्ठ 70 लाख रुपये में नीलाम हुयी। मालूम हो कि महिलाओं की दुर्दशा को कैनवस पर उकेरने में आज तक अमृता का कोई सानी नहीं रहा।(-अमित राजपूत के फेसबुक वाल से)  […]

0Shares
Continue Reading

आज ही निकला था मराठवाड़ा से पहला हिन्दी दैनिक “देवगिरि समाचार”

-प्रदीप श्रीवास्तव आज 3 अगस्त, आज के ही दिन 1992 में महाराष्ट्र की पर्यटन नगरी औरंगाबाद से मराठवाड़ा का पहला हिंदी दैनिक प्रकाशित हुआ था ” देवगिरि समाचार ” (जहां तक मेरी जानकारी है)।जिसका शुभारंभ तत्कालीन प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेई जी ने किया था , यद्यपि यह अखबार अधिक समय तक तो नहीं चल […]

0Shares
Continue Reading