आजमगढ़ सामाजिक और सांकृतिक संवर्धन समिति का गठन

@अरविंद सिंह। जिलाधिकारी एनपी सिंह की बहुत सारी खूबियों में से यह खूबी सबसे खुबसूरत है कि वह कोई काम कल पर नहीं छोड़ते बल्कि आज पर विश्वास करते हैं।कोई फाइल उनके टेबल पर कल के लिए नहीं रूकती, बल्कि वह आज और अभी पर पर विश्वास करते हैं। समय प्रबंधन और समय की प्रतिबद्धता […]

0Shares
Continue Reading

सुंदरता और त्वचा का रंग

– राममनोहर लोहिया सौंदर्य की परख की यह विकृति राजनैतिक प्रभाव के कारण आई है। गोरी चमड़ी के यूरोपियन लोग सारी दुनिया पर तीन सदियों से हावी रहे हैं। अधिकांश भागों को उन्होंने जीता और वहाँ अपना शासन कायम किया। वैसे भी उनके पास शक्ति और समृद्धि रही जो रंगीन जातियों के पास नहीं रही। […]

0Shares
Continue Reading

मुबारकपुर की बनारसी साड़ी एक जनपद एक उत्पाद में शामिल

आजमगढ़ 28 सितम्बर — एमएसएमई विकास संस्थान वाराणसी एवं राज्य सरकार के उद्योग विभाग के सहयोग से तथा अन्य सम्बन्धित विभागों के समन्वय से कलेक्ट्रेट परिसर में दो दिवसीय (27 व 28 सितम्बर 2019) उद्यम समागम में ओडीओपी (एक जनपद एक उत्पाद) उत्पादों एवं अन्य उत्पादों पर आधारित प्रर्दशनी का जिलाधिकारी नागेन्द्र प्रसाद सिंह की […]

0Shares
Continue Reading

बना रहे ‘बनारस’

बनारस की गलिया.……………………………… जो लोग बम्बई ,कलकत्ता और दिल्ली जैसे शहरों में एक बार हो आये है अथवा किसी कारणवश अब वही रहने लग गये है ,ऐसे लोग जब कभी किसी छोटे शहर में आयेंगे तो उस शहर के बारे में इस तरह बातचीत करेंगे मानो परमाणु बम का भेद बता रहे हो | चूँकि […]

0Shares
Continue Reading

अमृता प्रीतम : नारी संवेदनाओं की नयी तेवर और उनकी आवाज़

मुखर आवाज़:अमृता प्रीतम को जन्मदिन पर याद करते हुए। सारे शब्दसारे रंगमिलकर भीप्यार की तस्वीरनही बना पातेहां , प्यार की तस्वीरदेखि जा सकती हैपल – पल मोहब्बत जी रहीजिन्दगी के आईने में …. इमरोज ने अपनी अमृता के लिए लिखा था जब मैं इसको पढता हूँ तो खुद ब खुद मेरे मानस पटल पर अमृता […]

0Shares
Continue Reading

काशी रहने की नहीं जीने की जगह

– अतुल कुमार राय की वाल से अस्सी घाट रहता था तो स्वीडन के एक बुज़ुर्ग चाय की दुकान पर रोज़ टकरा जाते थे ! आभा से पूर्ण एकदम तेजोमयी व्यक्तित्व ! रोज़ उनके हाथ मे कैमरा होता। रोज़ कोई न कोई क़िताब होती..रोज़ किसी न किसी शास्त्रीय संगीत के कार्यक्रम की जानकारी होती। अस्सी […]

0Shares
Continue Reading

एक नजर जनजातीय संग्रहालय पर भी डालें जनाब!

(भाग दो)   कलाबोध की स्थिति मध्यगामी है – उसे न वैज्ञानिक प्रयोगधर्मिता से परहेज थी न सनातन तत्वों से | चेतना की उपज होते हुए भी कला अवचेतन की जड़ों में अपनी सार्थकता खोजती है | वह विज्ञान के उन सब युकातिस्न्गत, तार्किक और बौद्धिक अंध विश्वासों पर प्रश्न चिन्ह लगाती है, जो आधुनिक […]

0Shares
Continue Reading

कौन थी अमृता शेरगिल?

आधुनिक भारतीय कला के इतिहास की पहली महिला चित्रकार अमृता शेरगिल की पेण्टिंग पीड़ितों के लिए राहत कोष जुटाने के लिए हुयी नीलामी में सर्वश्रेष्ठ 70 लाख रुपये में नीलाम हुयी। मालूम हो कि महिलाओं की दुर्दशा को कैनवस पर उकेरने में आज तक अमृता का कोई सानी नहीं रहा।(-अमित राजपूत के फेसबुक वाल से)  […]

0Shares
Continue Reading

आज ही निकला था मराठवाड़ा से पहला हिन्दी दैनिक “देवगिरि समाचार”

-प्रदीप श्रीवास्तव आज 3 अगस्त, आज के ही दिन 1992 में महाराष्ट्र की पर्यटन नगरी औरंगाबाद से मराठवाड़ा का पहला हिंदी दैनिक प्रकाशित हुआ था ” देवगिरि समाचार ” (जहां तक मेरी जानकारी है)।जिसका शुभारंभ तत्कालीन प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेई जी ने किया था , यद्यपि यह अखबार अधिक समय तक तो नहीं चल […]

0Shares
Continue Reading